Manuscript जिसे पाण्डुलिपि भी कहा जाता है, इतिहास के प्रमुख स्रोत माने जाते है 

पाण्डुलिपि को ताड़ पत्रों पे हाथ से लिखा जाता था

Manuscript लैटिन शब्द से निकला है जिसमे Manu का मतलब हाथ से लिखा जाना होता है

हिमालय क्षेत्र में पाए जाने वाले भूर्ज के वृक्ष के छाल से भी पाण्डुलिपि बनाई जाती थी

पाण्डुलिपि से हमें प्राचीन अतीत की महत्पूर्ण जानकारी मिलती है 

संस्कृत की आरंभिक कीर्ति ऋग्वेद भी पाण्डुलिपि में आज से 3500 साल पहले लिखी गयी थी 

कई पाण्डुलिपियों में भारत की महान संस्कृति व सभ्यता की झलक मिलती है

तिरुवनंतपुरम के संघ्रालय में दुनिया का पहला Palm Leaf Manuscript को आप देख सकते है

Related Stories